Sex Stories Archive for June, 2010

योनि की आत्मकथा

On 2010-06-30 Category: Hindi Sex Story Tags:

लेखक : शगन कुमार मैं प्रगति की योनि हूँ ! प्रगति एक 36 साल की मध्यम-वर्गीय, कार्यरत महिला है जिसकी शादी को 15 साल हो चुके हैं और उसके एक बेटा है जो अब 12 साल का है। उसके पति सरकारी कर्मचारी हैं और उनकी उम्र 40 साल है। मैं प्रगति का सबसे छुपा हुआ […]

इंडियन कॉलेज गर्ल से प्रेम मिलन

मेरा नाम राजवीर कपूर है। यह मेरी अन्तर्वासना की पहली कहानी है। प्यार से लोग मुझे राज कहते हैं। मैं जालंधर का रहने वाला हूँ। यहाँ मेरे मम्मी, पापा मेरी बहन रहती है जो मुझसे दो साल छोटी है। मेरी उम्र 19 साल है। उम्मीद है कि यह कहानी आप को अच्छी लगेगी क्यों कि […]

आंटी ने मुझे चूत दिखाई

आँटी आई। वो पहली बार था जब मैंने चूत देखी थी, वो दिन मेरी जिन्दगी को झकझोर देने वाला था। जब मैंने चूत को देखा तो मैं बर्दाश्त नहीं कर पाया। मुझे उलटी सी आने वाली थी, मुझे घृणा होने लगी थी.

पाँच साल बाद घर वापिसी

On 2010-06-27 Category: कोई मिल गया Tags:

प्रेषक : करन गोयल नमस्ते दोस्तो ! मेरा नाम करन गोयल है और यह मेरी अन्तर्वासना पर पहली कहानी है। आप सबसे विनती करुंगा कि अगर कोई गलती मुझसे हो जाये तो मुझे माफ़ करें। सबसे पहले मैं आपको अपने बारे में बता दूँ। मैं 18 साल का एक नया-नया जवान होता लड़का हूँ। मेरा […]

मेरी गली का सलीम-2

On 2010-06-26 Category: पड़ोसी Tags:

लेखिका : शमीम बानो कुरेशी वो बोला- कल घर के सब लोग एक शादी में जायेंगे, आप उस समय मेरे घर आ जाना, बातें करेंगे।” “बातें करेंगे या चुदाई…?” मैंने उसके सीधे साधे दिल को भड़का दिया। “बानो आप तो जाने कैसे ये सब कह देती हो?” वो मचल कर बोला। “देखो मुझे गाण्ड मराने […]

मेरी गली का सलीम-1

On 2010-06-25 Category: पड़ोसी Tags:

लेखिका : शमीम बानो कुरेशी “क्या बात है अब्दुल, आजकल तो तू मिलने भी नहीं आता है?” मैंने शिकायत भरे स्वर में कहा। “नहीं, ऐसी तो कोई बात ही नहीं… बस अब इन बातों में मन ही नहीं लगता !” उसने सर झुका कर कहा। “कोई बात नहीं भड़वे, कभी कभी तो चोद जाया कर […]

कॉल सेंटर की एक रात

इस कहानी के पात्र व घटनाएँ काल्पनिक हैं। निखिल ने अभी अभी पढ़ाई ख़त्म करके कॉल सेंटर की नौकरी शुरु की थी। यहाँ आकर वह बहुत उत्साहित था- कॉलेज जैसा माहौल, बढ़िया फर्नीचर, माडर्न साज सज्जा और उसके जैसे स्मार्ट और हैंडसम लड़के। वैसे भी अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के दफ़्तरों में ऐसा माहौल होता ही है। […]

गर्मी का इलाज

मैं शालिनी … याद तो हूँ ना आपको… आपकी मदमस्त भाभी… आज फिर आपके साथ अपनी मस्ती की एक यादगार चुदाई की दास्तान बांटने आई हूँ। उम्मीद है पहली कहानियों की तरह यह भी आप सबको पसंद आएगी। मेरी पहली कहानियों तो लगी शर्त और जीजा मेरे पीछे पड़ा आप सब ने बहुत पसंद की। […]

दिल की कशिश-2

कहानी का पहला भाग: दिल की कशिश-1 मेरे लेटते ही रोहन भी मेरी बगल में लेट गया। फिर उसने अपना सर नीचे किया और मेरी चूचियों में अपना चेहरा दबा कर करवट पर लेट गया। उफ़्फ़ ! इतना बड़ा लड़का… और मेरी चूचियों में सर घुसा कर… मैं भी प्यार से अभीभूत होने लगी। मैंने […]

दिल की कशिश-1

मुझे चार दिन से वायरल बुखार चल रहा था। मेरे पति राजेश को अपने रूटीन कार्य सर्वे के लिये जाना जरूरी था। वो मुझे अकेला छोड़ कर नहीं जाना चाहते थे। पर मेरी सुविधा के लिये मेरे पति ने अपने पापा को अपने गांव फ़ोन कर दिया और परिणाम स्वरूप मेरे पति का छोटा भाई […]

मेरी जीवन-यात्रा का आरम्भ

On 2010-06-20 Category: रिश्तों में चुदाई Tags:

मैं एक साधारण परिवार से हूँ, बचपन में ही मुझे मेरे मामा के घर पर उनके साथ रहने को छोड़ दिया गया था। मामा पुलिस में थे, उनकी पत्नी यानि मेरी मामी का निधन हो गया था। मेरी उम्र उस समय केवल दस साल की ही रही होगी। मामा मुझे बड़ा प्यार करते थे और […]

चाची चार सौ बीस-3

जवान चूत जितना पिटती थी उतनी ही और जोर से लण्ड खाना चाह रही थी। मेरे चुदने की तमन्ना चाची ने पूरी करवा दी थी। फिर तो जी भर कर मैंने अंकल का लण्ड खाया और फिर अपने आप को रोक नहीं पाई...

चाची चार सौ बीस-2

‘यशोदा … सो गई क्या?’ ‘उंह्ह … चाची, क्या है? ओह, खाना लग गया क्या?’ ‘देख अंकल तुझे कुछ कहना चाह रहे हैं।’ फिर चाची पीछे मुड़ी और जाने लगी। अंकल ने तुरन्त चाची का हाथ पकड़ लिया, चाची रुक गई। ‘अंकल आप तो नंगे हैं !’ मैं जान करके हंस पड़ी। उनका लण्ड सख्त […]

चाची चार सौ बीस-1

चाची ने मेरे दोनों हाथ ऊपर खींच कर दबा दिये। अंकल मेरी टांगों की तरफ़ आ गये और उन्हें पकड़ कर दोनों और चौड़ा दिये। मेरी चूत खुल गई। अंकल का लण्ड हाय राम ...

पंछी दाना चुग गया

On 2010-06-16 Category: Office Sex Tags:

आपने मेरी पिछली कहानी मामा के साथ वो पल कुछ समय पहले पढ़ी। अब मेरे जीवन की एक नई घटना पढ़िए। आज उसने हिम्मत करके मुझे कॉपी रूम में पकड़ ही लिया … कब से दाना डाल रही थी मैं … पूरे तीन महीने की मेहनत आज रंग लाई … कॉलेज से ही चुदाई का […]

केयर टेकर-2

On 2010-06-15 Category: कोई मिल गया Tags: खून, गांड

कहानी का पिछला भाग: केयर टेकर-1 एक सप्ताह बाद सवेरे प्रीतम आया और कुछ पैसे मुझे दे गया। बता गया कि शाम को कुछ बिजनेस के काम से चार लोग आ रहे हैं, सामने से चिकन ले आना और बना देना… बाकी मैं कर लूँगा। ‘ठीक है बाबू जी, पर इतने दिन कहाँ रहे?’ ‘तू […]

मार्केटिंग-एग्ज़ीक्यूटिव

नाम: राज वर्मा अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा नमस्कार ! आशा करता हूँ कि मेरी पहली कहानी पढ़कर सभी लड़कों के लण्ड खड़े हो जाएंगे और लड़कियों की चूत फड़क उठेगी। बात कुछ दिन पहले की है, करीब दो महीने पहले की ! मैं गुडगाँव में जॉब करता हूँ और साथ एक जिगोलो भी […]

केयर टेकर-1

मैं दुनिया में बिल्कुल अकेली थी। मेरे माँ-बाप बचपन में ही एक दुर्घटना में चल बसे थे। मेरे मामा ने ही मुझे पाल-पोस कर बड़ा किया था। एम कॉम तक मुझे पढ़ाया था। मेरे मामा भी बहुत रंगीले थे। बचपन से ही वो मेरे शरीर से खेला करते थे। मेरे छोटे छोटे मम्मों को वो […]

सीलबंद माल

राज शर्मा दोस्तो, मैंने अन्तर्वासना पर काफी कहानियां पढ़ी हैं। कुछ सच्ची होती हैं और कुछ काल्पनिक ! आज मैं आपको अपनी सच्ची कहानी बताने जा रहा हूँ, यह शत प्रतिशत सच्ची है। पहले मैं अपना परिचय करा देता हूँ। मेरा नाम है राज, मैं राजस्थान का रहने वाला हूँ और चार साल से दिल्ली […]

छत की बात

मेरा नाम संदीप है,गाजियाबाद में रहता हूँ, उम्र 22 वर्ष और मेरी लम्बाई 6 फुट है, देखने में काफी स्मार्ट हूँ, मेरा लंड भी 7.5 इंच लम्बा और काफी मोटा है। मैं पिछले एक साल से अन्तर्वासना पर कहानियाँ पढ़ रहा हूँ और मेरा भी काफी मन करता था कहानी लिखने का तो मैं आज […]

Scroll To Top