डॉ. दलबीर सिंह

यौनसुख से वंचित पाठिका से बने शारीरिक सम्बन्ध -6

मैं एक उंगली उसकी चूत के पानी से गीली करके उसकी गुदा पर फेरने लगा, चूत का पानी बह कर उसकी गुदा के छेद पर आ चुका था तो मैंने उंगली को उसकी गांड में सरका दिया

पूरी कहानी पढ़ें »

यौनसुख से वंचित पाठिका से बने शारीरिक सम्बन्ध: लेखक की व्यथा

ऐसे पाठकों के दिमाग़ी दीवालिएपन पर तरस आता है क़ि अगर वो जगह जगह मुँह मारने वाली होती तो उसने पति के विदेश जाने के बाद 6 साल तक खुद पर काबू नहीं रखा होता।

पूरी कहानी पढ़ें »

यौनसुख से वंचित पाठिका से बने शारीरिक सम्बन्ध -5

वो मेरे निप्पल सहलाने लगी। मैंने उसकी जांघों के जोड़ों को चाटना शुरू कर दिया, कभी हल्के दाँतों से काटता और कभी उसकी रेशम जैसी जांघों को चूसने लगता।

पूरी कहानी पढ़ें »

यौनसुख से वंचित पाठिका से बने शारीरिक सम्बन्ध -4

लेटे लेटे आँख लग गई और शायद 10-12 मिनट बाद वो थोड़ी सी हिली जिससे मेरी खुमारी भी टूट गई। यह एक ऐसी खुमारी होती है जो दुनिया के किसी भी नशे में नहीं मिलती।

पूरी कहानी पढ़ें »

यौनसुख से वंचित पाठिका से बने शारीरिक सम्बन्ध -3

सेक्स के लिए मैं तैयार हूँ, यह बात मैने उसे फ़ोन करके बता दी और हमने मिलने का समय तय कर लिया। वो मुझे अपने घर ले गई और अब उसकी नारी सुलभ लज्जा आड़े आ रही थी।

पूरी कहानी पढ़ें »

यौनसुख से वंचित पाठिका से बने शारीरिक सम्बन्ध -2

मुझे काफ़ी टाइम हो चुका था किसी के साथ करे हुए पत्नी तो 7- 8 साल से ना के बराबर ही रूचि लेती थी, इसलिए मुझे भी सेक्स की भूख तो थी ही और बिना मेहनत के कोई खुद ही राज़ी हो जाए तो फिर तो क्या ही कहना।

पूरी कहानी पढ़ें »

तुझ को भुला ना पाऊँगा -5

उस रात दीपो ने सिर्फ मेरी औलाद के लिए मेरे साथ सेक्स किया. उसके जुड़वां बेटे हुए… लेकिन उसके बाद उसके और मेरे जीवन में वो वो हुआ जो भगवान करे किसी के साथ ना हो!

पूरी कहानी पढ़ें »

तुझ को भुला ना पाऊँगा -3

वो बोली- मैं अगले महीने यहाँ रहने आ रही हूँ, और वो भी पूरे 2 महीने के लिए, और तुम्हारी वो तमन्ना मैं उस वक्त पूरी करूँगी और जिस दिन मैं तुम्हें बुलाऊंगी, तुम्हें आना पड़ेगा

पूरी कहानी पढ़ें »

तुझ को भुला ना पाऊँगा -2

यह कहानी है सच्चे प्रेम की ! मुझे एक लड़की से प्यार हो गया, अपने घर वालों के हाथ रिश्ते की बात चलाई लेकिन जाती आड़े आ गई… उसकी शादी तय हो गई फिर भी हम मिले

पूरी कहानी पढ़ें »

तुझ को भुला ना पाऊँगा -1

यह कहानी है सच्चे प्रेम की ! जो कहानी पढ़ने का शौक रखते हैं उनको यह कहानी अच्छी लगेगी पर जो सिर्फ़ सेक्स ही पढ़ने वालों को शायद उनको यह कहानीअच्छी ना लगे।

पूरी कहानी पढ़ें »

चूत की कसक

कथा रूपांतरण : डॉ. दलबीर सिंह प्रेषक : करण दोस्तो नमस्कार, मैं आपका दोस्त डॉ. दलबीर आपके सामने फिर से हाजिर हूँ। मेरी कहानियाँ पढ़

पूरी कहानी पढ़ें »

अन्तर्वासना इमेल क्लब के सदस्य बनें

हर सप्ताह अपने मेल बॉक्स में मुफ्त में कहानी प्राप्त करें! निम्न बॉक्स में अपना इमेल आईडी लिखें, सहमति बॉक्स को टिक करें, फिर ‘सदस्य बनें’ बटन पर क्लिक करें !

* आपके द्वारा दी गयी जानकारी गोपनीय रहेगी, किसी से कभी साझा नहीं की जायेगी।

Scroll To Top