जिगोलो और काल गर्ल की शादी

(Gand Chut Ki Sex Kahani)

वालमिक्स 2023-01-13 Comments

गांड चुत की सेक्स कहानी एक काल गर्ल और जिगोलो शादी और हनीमून की है. दोनों शादी करके हनीमून पर गए और लौट कर फिर दोनों धंधे पर लग गए.

मैं संतोष एक कॉल ब्वॉय हूँ और एक कॉलगर्ल संजना के साथ रह कर अपनी चुदाई भरी जिन्दगी की सेक्स कहानी सुना रहा था.

अब तक की सेक्स कहानी
सेक्स वर्कर लड़का लड़की की चुदाई कहानी
में आपने पढ़ा था कि मैं पुरुष वेश्या (कॉल बॉय) का काम करता था और एक कॉल गर्ल संजना के साथ एक ही फ्लैट में पति पत्नी के परिचय से रहता था.

हम दोनों रवि, राजेंद्र के इवेंट मैनेजमेंट कंपनी में पार्टी के समय छोटे कपड़े पहनकर शराब के काउंटर पर काम करते थे.
पार्टी में आए मेहमान हमारा फ़ोन नंबर लेते, बाद में सौदा तय होता!

अब आगे गांड चुत की सेक्स कहानी:

दोस्तो, मुझे संजना के साथ रहते दो महीने हो गए थे.
जब संजना काम से ग्राहक के पास से वापस आती, तो ज्यादातर दूसरे दिन सुबह आती और बहुत थकी होती.

मैं उसकी मालिश करता, नहलाता, खाना बनाकर खिलाता और उसको आराम करने देता.
जब मैं अपने ग्राहक के पास से थककर आता, संजना मेरी मालिश करती, नहलाती, खाना बनाकर खिलाती.

हम दोनों में गहरी दोस्ती हो गयी थी पर हमने एक दूसरे के साथ यौन क्रीड़ा (सेक्स) नहीं किया था.
जबकि हम दोनों एक ही पलंग पर सोते थे.

एक रात हम दोनों फ्लैट में थे, आज किसी ग्राहक के पास नहीं जाना था.

मैंने कहा- संजना, जितना ख्याल तुम मेरा रखती हो, मेरे माता पिता के गांव जाने के बाद किसी ने नहीं रखा.
संजना बोली- मेरे माता पिता का देहांत बहुत साल पहले हो गया था, मैं अपने रिश्तेदार के साथ रहती थी. वहां अपनापन नहीं था. तुमने मेरा इतना ख्याल रखा, मैं तुम्हारी आभारी हूँ.

थोड़ी देर बाद संजना सो गयी.
मुझे लग रहा था, मुझे संजना से प्यार हो गया है.
फिर मुझे भी नींद आ गयी.

सुबह मैं जब जागा संजना सो रही थी.
वह बहुत सुंदर और भोली लग रही थी.
मुझसे रहा नहीं गया, मैंने संजना के होंठ चूम लिए.

संजना ने प्यारी मुस्कान के साथ आंखें खोलीं.

मैं बोला- संजना, मुझे तुमसे प्यार हो गया है.
संजना बोली- मुझे भी.

वह मेरे होंठों को चूमने लगी.

नाश्ते के समय मैंने कहा- संजना, मैं तुमसे शादी करना चाहता हूँ.
संजना बोली- तुमको मालूम है मैं क्या काम करती हूँ, फिर भी तुम शादी करना चाहते हो?

मैंने कहा- मैं भी तुम्हारे जैसा काम करता हूँ. क्या तुम शादी के लिए राजी हो?
संजना ने हां कह दिया.

एक महीने बाद हमारी कोर्ट में शादी हो गयी.
सुनील, अजय, रवि, राजेंद्र जो हमारे दोस्त और ग्राहक थे, हमारी शादी में गवाह बने.

साधारणतया, पति-पत्नी में से किसी एक का, यदि किसी बाहरी विपरीत लिंग के व्यक्ति से शारीरिक सम्बन्ध हो जाता है तो बवाल खड़ा होता है.
जबकि मुझे और संजना को मालूम था कि हम दोनों के कई से यौन सम्बन्ध हैं.
फिर भी हम एक दूसरे को प्यार करते थे. शायद यही असली प्यार है.

रात को संजना सुहाग सेज पर लाल साड़ी पहनकर बैठी थी.
मैंने उसका घूँघट उठाया, वह सर झुकाकर बैठी थी.

मैंने उसका चेहरा ठोड़ी पकड़कर उठाया, वह बहुत सुन्दर लग रही थी.
मैं बोला- संजना, आज तुम बला की खूबसूरत लग रही हो.

वो शर्मा गई.
मैंने उसे प्यार से लिटाया और उसको आलिंगन में लेकर उसके होंठ चूमने, चूसने लगा.

संजना मेरे होंठों को चूसने लगी.

हमें पता ही नहीं चला कब हम दोनों निर्वस्त्र हो गए.
मैंने संजना को बिना कपड़ों के कई बार देखा था, उसकी मालिश की थी.
पर आज उसका बदन अलग ही सुन्दर लग रहा था.

मैं उसके स्तन दबाने, चूसने लगा.
संजना उत्तजेना से सिसकारी ले रही थी.

मैंने कंडोम पहना, उसके साथ मिशनरी पोजीशन में सम्भोग करने लगा.

संजना कमर उछालकर मेरा साथ दे रही थी.
काफी देर सम्भोग के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए.

मैं संजना के बाजू में लेटा था.
मैंने कहा- मुझे इतना आनन्द कभी नहीं आया.

संजना बोली- हर लड़की की तरह मेरा सपना था, मेरी शादी, सुहागरात होगी. मेरा सपना आज पूरा हो गया. मुझे इतनी संतुष्टि पहली बार मिली.

फिर हम दोनों एक हफ्ते के लिए हनीमून पर गए.
हमने अपना मोबाइल नंबर बंद रखा जिसमें हमारे ग्राहक हमसे संपर्क करते हैं.
अपना प्राइवेट नंबर चालू रखा.

हनीमून में हम दिन भर घूमते, शाम को होटल में वापस आते ही हमारी यौन क्रीड़ा शुरू हो जाती.
हम एक दूसरे से खुल गए थे.

चूत, लंड, गांड, चूचे जैसे शब्दों का खुल कर इस्तेमाल करते.

हमारी 21 की उम्र का यौवन और आपस के प्यार के कारण, हम रात को दो तीन बार यौन आनन्द लेते.
हमें जितने आसन मालूम थे और कुछ कल्पना, कुछ वीडियो देखकर हमने हर आसन में यौन किया.

एक रात संजना बोली- आज नया करते हैं. इतने दिन चूत का मजा तो बहुत ले लिया. संतोष आज तुम मेरी गांड मारो.

संजना पेट के बल लेट गयी, अपने चूतड़ हाथ से फैला दिए.
मैंने संजना के ऊपर लेटकर उसकी गांड मारी.

संजना- संतोष मजा आ गया, एक बात बताओ. तुमने बताया था तुम्हें गांड मरवाने में मजा आता है. तुम्हारी गांड मरवाने की इच्छा नहीं हो रही?
मैंने कहा- हो तो रही, पर क्या कर सकते हैं?

संजना मुस्कुराकर बोली- मैं तुम्हारी गांड मार देती हूँ.
संजना ने बैग से स्ट्रेप ऑन डिल्डो निकाला और जमकर मेरी गांड मारी.

मुझे मजा आ गया.
संजना बोली- इसी तरह हम एक दूसरे की कामनाओं को पूरा करेंगे.

एक हफ्ते बाद हम हनीमून से वापस आए.

फ्लैट में वापस आकर मैंने और संजना ने अपने भविष्य की प्लानिंग की.

जैसे जैसे हमारी उम्र बढ़ेगी हमारे ग्राहक कम होते जाएंगे. हम लोगों ने तय किया फालतू खर्च नहीं करेंगे, पैसा जमा करेंगे हम दोनों के बैंक जॉइंट अकाउंट में!

हम सिर्फ अमीर ग्राहक जो अच्छा पैसा देते हैं, उनके पास जाएंगे.
सौदा तय होने के समय ही ग्राहक को बता देंगे कि सेफ सेक्स ही होगा. हम बैग में पीपर स्प्रे रखेंगे, कोई जबर्दस्ती असुरक्षित सेक्स करना चाहेगा, तो उसका इस्तेमाल करेंगे.

अपने देश में अपनी मर्जी से वेश्या का काम करना कानूनन जुर्म नहीं है, परन्तु हमारे ग्राहक हमें सिर्फ नगद रूपये देते थे.
कभी इनकम टैक्स वाले हमें पूछेंगे कि पैसा किधर से आता है, उसका प्रूफ नहीं था.

इसमें रवि और उसके टैक्स सलाहकार ने हमारी मदद की.
वह अलग कहानी है.

हमने अपना ग्राहक से संपर्क करने वाला मोबाइल नंबर फिर चालू कर लिया. ग्राहकों के फ़ोन आने लगे, हम दोनों ग्राहकों के पास जाने लगे.

फिर 6 महीने बाद रवि, राजेंद्र ने हमें उनके घर बुलाया. उनके साथ एक और लड़का, लड़की थे.
रवि ने उनका परिचय कराया, दोनों पहले उनके इवेंट में बार पर काम करते थे.

रवि- हम लोग एक लाइव सेक्स शो करने वाले हैं. तुम चारों को स्टेज पर यौन क्रीड़ा करनी है, जैसा विदेशों में होता है.
काफी रूपये मिलने वाले थे.

उसने हमें विस्तार से बताया कि क्या करना है, वीडियो भी दिखाया.
मैंने और संजना ने वैक्सिंग की, फेसियल, बॉडी पॉलिश करके शरीर को चमकाया.

अगली शाम 6 बजे रवि हमको कार से पहाड़ी पर बने बंगले में ले गया.
दूसरे लड़के लड़की की जोड़ी भी आ गयी.

हॉल के बीच स्टेज था, जो धीमी गति से घूमता था. उस पर एक पलंग था.
स्टेज के चारों ओर कुर्सियां रखी थीं. स्टेज पर तेज रोशनी थी.

कोने में कोल्ड ड्रिंक और शराब, चकना आदि का काउंटर था.

वहां कोई नौकर नहीं था.

हमारे तैयार होने और आराम के लिए एक कमरा था.

दोनों लड़कियों ने ब्रा पैंटी के ऊपर झीना गाउन पहना था, उसमें से उनका शरीर दिखता था.

लड़कों ने छोटा हाफ पैंट, बिना बांह की टी-शर्ट पहनी.

शाम 7 बजे मेहमान आने शुरू हो गए.
हम चारों (दो लड़के, दो लड़की) हॉल के दरवाज़े पर खड़े होकर मेहमानों का स्वागत कर रहे थे.

रवि, राजेंद्र ने मेहमानों से हमारा परिचय आज के शो के कलाकार कहकर कराया.

सभी मेहमानों के चेहरे पर नकाब थे अपनी पहचान छुपाने के लिए.
सबके मोबाइल रख लिए गए, फोटो लेना मना था.

कुल 15 पुरुष, 5 महिलाएं अपना ड्रिंक लेकर स्टेज के चारों ओर बैठ गए.
हम में से दो लड़कियां स्टेज पर आकर चूमा-चाटी करने लगीं.

एक दूसरे का गाउन उतार दिया, दोनों ब्रा पैंटी में एक दूसरे के चूचे दबाने लगीं,
फिर दोनों ब्रा पैंटी भी उतारकर एक दूसरे के चूचे चूसने, चूत सहलाने लगीं.

डेंटल डैम लगाकर 69 पोजीशन में एक दूसरी की चूत चाटी.
दो सिरे वाला लम्बा डिल्डो अपनी अपनी चूत में डालकर एक दूसरे को चोदा.

दोनों खूब सिसकारी ले रही थीं जिसकी आवाज़ हॉल में गूंज रही थी.

शो खत्म हुआ, हमने हाथ हिलाकर विदा ली.

सभी ने खूब ताली बजायी.

फिर 15 मिनट ब्रेक के बाद, मैं और संजना स्टेज पर आए, चूमा चाटी के बाद हम दोनों ने एक दूसरे के कपड़े उतार दिए.
मैंने कंडोम पहन लिया, 69 पोजीशन में संजना मेरा लंड चूस रही थी.

मैंने एक लम्बाई में कटा कंडोम संजना की चूत पर रखा और उसकी चूत चूसने लगा.
संजना ने पीठ के बल लेटकर अपनी टांगें फैला दीं.

मैं उसके ऊपर चढ़कर उसे चोदने लगा.
संजना ने मुझे पीठ के बल लिटाया, मेरा लंड चूत में लेकर उछलने लगी.
उसके चूचे उछल रहे थे.

मैंने संजना को घोड़ी के सामान पलंग के किनारे खड़ा किया और फर्श पर खड़े होकर उसकी चूत चुदाई करने लगा.
हर धक्के के साथ संजना के चूचे डोल रहे थे, हम दोनों सिसकारी ले रहे थे.

इस बात का ख्याल रख रहे थे कि हमसे ज्यादा मजा दर्शकों को आए.

मैंने अपना लंड चूत से निकाला, कंडोम पर के-वाई जैल लगाया और संजना की गांड मारने लगा.
हमने अलग अलग आसनों में सम्भोग किया कभी चूत में लंड, कभी गांड में.

जो आसन मेहमानों ने नहीं देखे थे, उसको देखकर मेहमान ताली बजा रहे थे.

कुछ 20 मिनट बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए.

ऐसा ही सेक्स शो दूसरे लड़की लड़के की जोड़ी ने किया.

अगला शो 10 मिनट बाद शुरू हुआ.

हम दोनों लड़के नंगे कुत्ते की तरह चलकर स्टेज पर आने लगे.
लड़कों के गले में पट्टा था, पट्टे में लगी चेन को लड़कियों ने पकड़ रखा था.

लड़कियों के हाथ में बेल्ट थी.
लड़कियों ने सेक्सी ब्रा पैंटी पहनी थी. लड़के जब चलते समय रुकते, लड़कियां उनके कूल्हे पर बेल्ट से मारतीं.
लड़के चलने लगते.

स्टेज पर रखे पलंग के दोनों तरफ एक एक लड़की बैठ गयी.

उन्होंने अपनी पसन्द के लड़के की चेन पकड़ी थी.
लड़कियों ने लड़कों को उनके पैर चूमने और चाटने को कहा.

लड़कियों ने अपनी ब्रा पैंटी उतार दी, अपनी चूत पर लम्बाई में कटा कंडोम रखा, लड़कों को बेल्ट से मारकर उनको चूत चूसने को कहा.

थोड़ी देर चूत चुसाई के बाद लड़कियों ने स्ट्रेप ऑन डिल्डो पहना, उस पर कंडोम लगाया.
लड़कों को डिल्डो चूसने को कहा.

लड़कियां लड़कों का सर पकड़कर उनके गले तक डिल्डो डाल देतीं.

फिर लड़कियों ने, अपने साथ वाले लड़के की गांड, डिल्डो पर कंडोम लगाकर उसपर लुब्रिकेशन लगाकर, विभिन्न आसनों में गांड मारी.
लड़के आ आ, सी सी की आवाज़ निकाल रहे थे.

जब लड़कियों ने लड़कों की आपस में अदला बदली की, तब उन्होंने नया कंडोम लगाया.

ये सब एक सन्देश देने के लिए किया गया था कि एक लड़के की बीमारी दूसरे को नहीं लगे.

फिर घोषणा हुई कि यह शो ख़त्म हुआ.
मेहमानों ने ताली बजाई, खासकर महिलाओं ने.

थोड़ी देर बाद मैं और दूसरा लड़का स्टेज पर आए, चूमा चाटी के बाद मैंने दूसरे लड़के के लंड पर कंडोम लगाकर चूसा.

उसने बहुत से आसनों में, मेरी धुआंधार गांड मारी.
शो ख़त्म हुआ.

जिन पुरुषों को गे सेक्स पसंद था, उन्होंने खूब ताली बजाई.
हम चारों कलाकार कमरे में नहाकर आराम कर रहे थे.

बाहर शोर सुनकर, निकलकर देखा कि मेहमान रवि राजेंद्र को घेरकर खड़े थे और कह रहे थे कि कल रात मुझे वह लड़का/वह लड़की चाहिए.

रवि, राजेंद्र बोले- हम कलाकारों से बात करके आते हैं.

रवि, राजेंद्र ने हम चारों से कहा- हम नीलामी का प्रस्ताव देंगे, इससे तुम लोगों को ज्यादा पैसे मिलेंगे.

हमने नीलामी का वीडियो देखा था.
हम राजी हो गए.

बाहर आकर रवि, राजेंद्र ने मेहमानों को नीलामी का सुझाव दिया.
सभी राजी हो गए.

दोनों लड़कियां ब्रा पैंटी में, दोनों लड़के सिर्फ फ्रैंची में स्टेज पर आए.

संजना की सबसे ज्यादा बोली लगी, बाक़ी तीनों की भी अच्छी बोली लगी.

लड़कों की बोली में स्त्री पुरुष दोनों ने भाग लिया.
लड़कियों की बोली में पुरुषों और महिलाओं ने लगाई. महिलाओं ने लेस्बियन सेक्स के लिए.

सबसे ज्यादा बोली लगाने वाले/वाली को कल रात की तारीख मिली. बाक़ी को बोली के मूल्य के अनुसार बाद की तारीखें मिलीं.

मेहमानों को चिट दी गयी, उसमें जिसकी बोली लगाई, उसका नाम, तारीख, बोली के रूपए और कोर्ड वर्ड दिया गया.

जैसे संतोष 456, जिससे फ़ोन आने पर ग़लतफ़हमी न हो.

उसकी एक प्रति हम चारों को दी गयी.

कुछ रात सब बोली लगाने वालों/ वालियों की बारी ख़त्म होने तक हम व्यस्त रहे.

उसके बाद मुझे और संजना को बहुत लोगों ने लाइव सेक्स करने बुलाया.
दर्शक कभी पति पत्नी होते जो हमसे नए नए आसन सीखते, कभी कभी हमारे सामने ही आजमाते.

कभी तीन चार दर्शक ही होते.

हमने बोल रखा था कि लाइव शो की कोई वीडियो या फोटो नहीं निकालेगा क्योंकि पुलिस को फोटो/वीडियो मिलने से बहुत मुश्किल खड़ी होगी.
इससे अच्छी कमाई हो रही थी.

एक रात एक पति पत्नी ने मुझे और संजना को लाइव सेक्स शो के लिए अपने शानदार फार्म हाउस पर बुलाया.

पति पत्नी 23-24 साल के थे.
पत्नी ने अपना चेहरा ढक रखा था, सिर्फ उसकी आंख खुली थी.

हमारी यौन क्रीड़ा के समय दोनों पलंग के पास बैठे थे.
कभी कभी पास आकर भी देखते.

शो ख़त्म होने के बाद हमने कपड़े पहने.
उन्होंने हमें ड्राइंग रूम में बैठाया.

पति ने कहा- आप लोग उत्तम दर्जे के कलाकार हैं, इतने आसन कामसूत्र में भी नहीं हैं, हम लोगों की नयी शादी हुई है. हमें आसन सिखाने के लिए यदि संजना 3-4 दिन यहां रहकर गोली का काम करने को राजी है, तो हम अच्छी फीस देंगे. संतोष को भी यहां रहना होगा, कभी उसकी सलाह की जरूरत पड़ सकती है.

मैंने और संजना ने गोली के बारे में पढ़ा था. हमने आपस में सलाह की और राजी हो गए, अच्छी फीस तय हुई.

गोली के विषय में आपको बता देना ठीक रहेगा.
दरअसल पुराने समय में राजा के महल के अंतरपुर में जहां उनकी रानियों का निवास होता था, वहां गोली दासी होती थी.

गोली काम कला में निपुण होती थी. राजा रानी के यौन क्रीड़ा के समय वह शयन कक्ष में रहती और उनकी यौन क्रीड़ा में मदद करती.
जब कोई नयी रानी महल आती, गोली का काम था, उनको यौन क्रीड़ा के बारे में बताना.

राजा लोग अक्सर सेक्स बढ़ाने की दवाई लेते थे. जब कोई नयी रानी देर तक चुदाई झेल नहीं पाती तो राजा गोली के साथ झड़ने तक सम्भोग करता.

तय दिन मैं और संजना अपने कपड़े आदि लेकर फार्म हाउस पहुंच गए.
हमें ग्राउंड फ्लोर में गेस्ट रूम में ठहराया गया, अच्छी खातिरदारी हुई.

पति पत्नी का बेड रूम फर्स्ट फ्लोर में था, वहां मुझे जाने की मनाही थी.

मैंने उस युवक की पत्नी का चेहरा कभी नहीं देखा.
जब भी बुलावा आता, संजना उनके बेड रूम में जाती, उनको यौन क्रीड़ा में मदद करती.
सभी आसन सिखाती.

एक रात पति पत्नी ने शंका जताई, उन लोग कुछ आसन भूल सकते हैं, कोई किताब है क्या?
संजना ने कहा- कोई किताब में सब आसन नहीं हैं.

संजना ने सुझाव दिया- पति पत्नी अपना मुँह ढककर सभी आसनो में सेक्स करें, वह उनके मोबाइल से फोटो लेगी. मुँह ढकना जरूरी है, जिससे फोटो किसी के हाथ लग भी गयी, तो उसका दुरूपयोग न कर सके.
पति पत्नी राजी हो गए.
संजना ने फोटो ले ली.

संजना ने उस युवती को कैगल एक्सरसाइज सिखा दिया जिससे बहुत सालों तक चूत टाइट रहेगी, बच्चा होने के बाद भी.

कैगल एक्सरसाइज के बाद संजना 7 इंच लम्बी पेंसिल युवती के चूत में 2 इंच डालती, पेंसिल का बाकी 5 इंच बाहर झूलता.
वो युवती को चूत टाइट करने को कहती, जिससे पेन्सिल न गिरे.

पहले संजना ने अपनी चूत में पेंसिल डालकर दिखाई, पेंसिल नहीं गिरी.
वो भी करना सीख गई.

एक दिन युवक संतोष से गेस्ट रूम में आकर मिला.
उसने मुझसे पूछा- क्या तुम दवाई लेते हो, जिससे तुम सम्भोग के समय देर तक नहीं झड़ते हो?

मैं- मैं कोई दवाई नहीं लेता, सम्भोग के समय जब मुझे लगता है, मैं थोड़ी देर में झड़ने वाला हूँ, मैं लंड को चूत से थोड़ा बाहर निकाल लेता हूँ. लंड की जड़ को कस कर पकड़ लेता हूँ और सांस रोक लेता हूँ, अपना ध्यान चुदाई से हटाकर संजना का सुंदर चेहरा देखता हूँ. झड़ना टल जाता है.

इसके 4 दिन बाद मैं और संजना अपनी फीस और इनाम लेकर वापस आ गए.
इन 4 दिनों में उस युवक ने संजना को छुआ भी नहीं.

वह अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता था, उससे संतुष्ट था.

एक महीने बाद, उस युवती ने संजना को फ़ोन किया- मेरे पति मेरे पीछे गांड में डालना चाहते हैं, पर सफल नहीं हो रहे हैं.

संजना ने युवती से कहा- आस प्लग का सैट, के-वाई जैल खरीदकर खबर दो, मैं आ जाऊंगी.

कुछ दिन बाद युवती ने संजना को बुलाया.
वह फार्म हाउस में अकेली थी, उसके पति काम पर गए थे.

संजना नयी पिचकारी लेकर पहुंची. उसने युवती की गांड में पानी भरकर तीन बार साफ़ किया.
गांड कैसे ढीली छोड़ना है, वो सिखाया.

उसको पेट के बल लिटाकर उसकी गांड में तेल लगी उंगली, पहले एक, फिर दो उंगली अन्दर बाहर की. फिर उसकी गांड में छोटा आस प्लग लगाकर चलने को कहा.
युवती को मजा आ रहा था.

एक दो दिन बाद बड़ा आस प्लग लगाकर काफी देर रखने को कहा.

एक हफ्ते बाद पति पत्नी का फ़ोन आया, पीछे गांड का सम्भोग सफल रहा, मजा आया.
पति ने संजना को अच्छी रकम फीस में दी.

इस तरह से हम लोग मजे से सम्भोग करना और करवाना सिखा रहे थे और मजे से जी रहे थे. खूब पैसा मिल रहा था.
आगे इसी विषय को लेकर और भी कुछ मजेदार बातें लिखूंगा.

आप मेरी गांड चुत की सेक्स कहानी पढ़ते रहें और मुझे मेल भी करें.
[email protected]

गांड चुत की सेक्स कहानी से आगे की कहानी: तीन अफ्रीकी लंड और एक कॉल गर्ल

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top