तीन अफ्रीकी लंड और एक कॉल गर्ल

(Big Penis Sex Pain Story)

वालमिक्स 2023-01-14 Comments

बिग पेनिस सेक्स पेन स्टोरी में पढ़ें कि पैसे के लालच में एक कॉल गर्ल ने 2 अफ्रीकी क्लाइंट ले लिए. उन्होंने उसके साथ कैसे सेक्स किया?

मैं संतोष नामक एक कॉलब्वॉय हूँ और मैंने एक कॉल गर्ल संजना से शादी कर ली थी.

हम दोनों अपनी सेक्स भरी जिन्दगी से खुश थे और अपने पेशे के प्रति पूरी तरह से समर्पित थे.

उस दौरान हमारे जीवन में क्या क्या घटनाएं घटीं, उनका वर्णन मैं आपको अपनी सेक्स कहानी में लिख कर बता रहा था.

मेरी पिछली कहानी
जिगोलो और काल गर्ल की शादी
में अब तक आपने पढ़ लिया था कि हम दोनों सेक्स के लिए अपने ग्राहकों को संतुष्ट करते हुए मजा ले रहे थे तथा जो ग्राहक हमसे कुछ तरीके सीखना चाहते थे, वो हम उन्हें सिखा कर अपनी फीस वसूलते हुए अपना जीवन व्यतीत कर रहे थे.

अब आगे बिग पेनिस सेक्स पेन स्टोरी:

हम दोनों एक इवेंट मैनेजमेंट कंपनी के पार्टी में बार में काम करते थे, पार्टी में आए मेहमान उनका फ़ोन नंबर लेते, बाद में सौदा तय होता था.
हम दोनों ने सेक्स के एक लाइव शो में भी भाग लिया था.

उसके बाद हमको कई ग्राहकों ने अपने घर लाइव शो करने बुलाया.
कुछ पति पत्नियों ने हमसे विभिन्न आसनों में यौन क्रीड़ा करना सीखा.

इस तरह से मेरी और संजना की शादी को 6 साल हो गए थे.

पार्टी में शराब के काउंटर पर अब नए लड़के लड़की की जोड़ी आ गयी थी. हम दोनों अब पार्टी में सुपरवाइजर का काम कर रहे थे. तनख्वाह बार में काम करने से काफी कम थी, पर क्या किया जा सकता था.

अब हम दोनों की उम्र 26 साल थी. हम अभी भी ग्राहकों के पास जाते, पर ग्राहक कम होने लगे थे.

हमको मालूम था कि ज्यादा दिन हमारा कॉल गर्ल-कॉल बॉय का काम नहीं चलेगा.
हमारे बैंक अकाउंट में इतने रूपए थे कि उसके ब्याज से बाक़ी जिंदगी आराम से कट सकती थी.

समय काटने के लिए सुपरवाइजर की नौकरी थी, पर हमारे मन में और ज्यादा कमाने का लालच आ गया था.

एक कंपनी की पार्टी में कुछ विदेशी मेहमान थे, उसमें दो हट्टे-कट्टे अफ़्रीकी मेहमान बार बार संजना से दोस्ती करने की कोशिश कर रहे थे.
पार्टी में संजना का एक पुराना ग्राहक यह देख रहा था, जो अभी भी संजना को बुलाता था.

उसने दोनों अफ़्रीकियों को बताया की संजना रात भर के लिए मिल सकती है, उससे फीस तय करो.
दोनों अफ़्रीकियों ने संजना को एक रात के लिए एक लाख देने का प्रस्ताव रखा, संजना राजी हो गयी.

संजना को मालूम था कि दोनों अफ़्रीकी उसकी हालत ख़राब कर देंगे, पर संजना के मन में लालच आ गया था.
वह पहली बार अफ़्रीकी मर्द के पास जा रही थी.

संजना ने घर आकर बड़ा आस प्लग अपनी गांड में डालकर काफी देर रखा, दूसरे दिन भी डालकर रखा.
मेरे पूछने पर बताया कि रात को दो मर्दों ने बुलाया है.

संजना इससे पहले भी दो तीन देसी मर्दों से सामूहिक चुदाई करवा चुकी थी.
पर संजना ने यह नहीं बताया कि वो दोनों मर्द अफ़्रीकी हैं.

तीसरे दिन, शाम को संजना ने जाने से पहले एक 5 स्टार होटल का पता और रूम नंबर मुझे देकर कहा- मैं यहां जा रही हूँ.
सुबह संजना ने फ़ोन पर मुझसे कहा- मुझे यहां आकर ले जाओ, मैं अकेली घर नहीं आ पाऊंगी.

मैं होटल पहुंचा, रिसेप्शन में मैंने अपना नाम और रूम नंबर बताया.
रिसेप्शनिस्ट ने कहा- आप बीमार को लेने आए हैं?

मैं चुप था.
उसने एक व्हील चेयर देकर कहा- इसमें आप बीमार को ला सकते हैं.

मुझे चिंता होने लगी.
मैं व्हील चेयर लेकर कमरे तक गया, दरवाज़े को घंटी बजाई.

दरवाज़ा एक अफ़्रीकी ने खोला.
मेरे नाम बताने पर उसने मुझे अन्दर आने दिया.

कमरा एक शानदार सूट था, एक ड्राइंग रूम, उसके बाद बेडरूम.
बिस्तर पर दो अक्रीकी नंगे सो रहे थे. उनका लंड खड़ा था, जैसा आम तौर पर पुरुषों का सुबह होता है.

मैंने जब उनके लंड देखे, मेरे होश उड़ गए. दोनों के लंड 10 इंच लम्बे और घोड़े जैसे मोटे थे.

संजना सोफे पर नंगी लेटी थी, उसके बदन और चूचे पर चूसे और मार के नीले निशान थे, बदन थूक से गीला था.

उसकी हालत खराब थी, उसने धीरे से आंख खोलकर कहा- संतोष, मुझे बाथरूम में ले चलो.

मैं संजना को उठाकर बाथरूम ले गया, उसको शुशु कराई.
उसको नहलाते समय मैंने देखा उसकी चूत और गांड लाल और सूजी हैं.

मैंने संजना को गाउन पहनाया, उसे व्हील चेयर पर बिठाया, जिस अक्रीकी ने दरवाज़ा खोला था.
उसने मुझे संजना का बैग देकर कहा- इसमें रूपए हैं.

मैं व्हील चेयर से संजना को रिक्शे तक लाया और घर पहुंचकर संजना को बिस्तर पर लिटाकर उसकी गांड और चूत की बर्फ से सिकाई की, दर्द निवारक दवा दी.

संजना का हाथ पकड़कर मैं रोने लगा.
मैं बोला- संजना, तुमने इतना बड़ा खतरा क्यों लिया, तुम्हें कुछ हो जाता तो? तुमने मेरे बारे में नहीं सोचा?

शाम को उसको परिचित डॉक्टर के पास ले गया, डॉक्टर संजना का ग्राहक भी था.
मैंने डॉक्टर को बताया कि संजना की यह हालत अफ़्रीकी लोगों ने की है.

डॉक्टर ने जांच के बाद बताया कि किस्मत से संजना की गांड और चूत अन्दर से चिर नहीं पायी है, यदि चिर गयी होती तो टांके लगाने पड़ते.
उसने दवा दी जो गांड और चूत के अन्दर 7 दिन लगानी थी, शरीर के चोटों के लिए मलहम दिया.
उसे बिस्तर पर आराम करना था.

मैंने संजना को दो दिन बिस्तर से उठने नहीं दिया.
मैं उसकी चूत ओर गांड के अन्दर मलहम लगाता, बर्फ से चूत, गांड सेंकता.
संजना के फैले हुए छेद सामान्य होने लगे.

मैं संजना को गोद में उठाकर बाथरूम ले जाता.
तीसरे दिन से संजना चलने लगी तो मैंने संजना से पूछा- यह हालत कैसे हुई?

संजना की आपबीती संजना की जबानी सुनें.

मैं (संजना) शाम को 6 बजे होटल के कमरे में पहुंची, दरवाज़ा उस अफ़्रीकी ने खोला, जिसने सौदा तय किया था.
कमरे में दूसरा अफ़्रीकी भी था, उससे भी मैं पार्टी में मिली थी.

मेरे बैग में ढेर सारे कंडोम और के-वाई जैल के पैक थे.
उन्होंने मेरे कपड़े उतार दिए, मैं उन दोनों के बीच नंगी खड़ी थी.

वो दोनों मेरे चूचे दबाने, चूसने लगे. मेरे कूल्हे मसकने लगे.

इतने में दरवाज़े की घंटी बजी, एक ने मुझे जकड़ रखा था, दूसरे अफ़्रीकी ने दरवाज़ा खोला, तो तीसरा अफ़्रीकी अन्दर आ गया.
मैंने कहा- दो लोगों की बात हुई थी?
अफ़्रीकी बोला- ये हमारा दोस्त है, इसके हम तुम्हें 25 हज़ार और देंगे.

मैं चुप रह गई.
उन्होंने मुझे घुटनों के बल बिठाया और तीनों अफ्रीकियों ने अपनी पैंट उतारी.
उनका लंड आधा खड़ा था, मैं उनकी जांघ और लंड पर हाथ फेरने और चूमने लगी.

जब उनका लंड खड़ा हुआ, तो मैं कांप उठी.
सभी के लंड 10 इंच लम्बे और घोड़े की तरह मोटे थे.

मैंने वीडियो में अफ़्रीकी लंड देखा था, पर चेहरे के पास उतना बड़ा लंड देखकर मैं डर गयी.
तो मैंने कहा- इतने बड़े बड़े वह भी तीन तीन … मैं नहीं ले पाऊंगी.

मैंने कपड़े पहनने की कोशिश की.
एक अफ़्रीकी बोला- सौदा तय हो चुका है, तुमको रात भर रुकना पड़ेगा.
उसने मुझे घुटनों पर बिठा दिया. मेरे हाथ में कंडोम देकर तीनों के लंड पर पहनाने को कहा.

कंडोम लगते ही मुझे लंड चूसने को कहा.
मैं बारी बारी उनका लंड चूसने लगी. मोटाई के कारण मुझे बड़ा मुँह खोलना पड़ा, मेरा मुँह दुखने लगा.

गले तक लेने के बाद भी उनका आधा लंड ही मेरे मुँह में जा रहा था.
अफ्रीकियों ने मुझे पलंग पर पीठ के बल लिटाकर कहा- हमें रफ़ सेक्स में मजा आता है, हमारे बीवियों को भी रफ़ सेक्स पसंद है. चुदाई के बाद यदि बीवी को चलने में मुश्किल न हो, तो वह उसको चुदाई नहीं मानती.

मैंने उनसे विनती की कि प्लीज आप लोग थोड़ा धीरे चोद लीजिए. मैंने इतना बड़ा और मोटा लंड कभी नहीं लिया है. आप लोग तीन भी हो.
अफ़्रीकी लोग हंसने लगे और एक बोला- तुम कैसी रंडी हो? तुम्हारी गांड फट रही है?

मैं चुप हो गई.
दो जन मेरे दोनों ओर खड़े थे.

उन्होंने मेरे पांव उठाकर पकड़ लिए, मेरी कमर के नीचे तकिया लगा दिया. तीनों फर्श पर खड़े थे.
तीसरा लंड लहराकर मेरे पैरों के बीच आया और एक की झटके में अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया.

मुझे लगा कि मेरे शरीर के दो टुकड़े हो जाएंगे.
मैं तड़फने लगी, आंख में आंसू आ गए.

मेरा तड़फना देखकर तीनों खुश होकर हंसने लगे.

वो अफ़्रीकी धीमी गति से मेरी चूत मारने लगा.
मैंने अपना शरीर ढीला छोड़ दिया, जिससे तकलीफ कम हो.

थोड़ी देर बाद उसने अपना लंड चूत से निकाला औऱ कंडोम पर लुब्रिकेशन लगाने लगा.
उसने अचानक मेरी गांड में पूरा लंड डाल दिया.

गांड का दर्द चूत से भी ज्यादा था.
थोड़ी चुदाई का बाद वह हट गया.

तीनों ने बारी बारी उसी तरह मुझे चोदा.

एक अफ़्रीकी पलंग पर पीठ के बल लेट गया.
उसका कमर तक का हिस्सा पलंग पर था और पैर फर्श पर थे.

बाक़ी दोनों ने मुझे उठाया.
लेटे अफ़्रीकी की तरफ मेरी पीठ करके उन्होंने मुझे उसके लंड पर बिठाकर छोड़ दिया.

खचाक से उसका पूरा लंड मेरी गांड में घुस गया.
दूसरे अफ़्रीकी ने फर्श पर खड़े होकर मेरी मेरी टांगें उठाकर पकड़ लीं और अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मुझे चोदने लगा.

नीचे लेटा अफ़्रीकी अपनी कमर को झटके देकर मेरी गांड मार रहा था.
मेरे दोनों छेदों में लंड थे, मैं बेबस थी और दर्द से चीख रही थी.

सबने जगह बदल कर मेरी चुदाई की. उनको मेरी चीखों से मजा आ रहा था.
करीब एक घंटा की चुदाई के बाद तीनों बारी बारी से झड़ गए.

मुझे छोड़ते ही, मैं अपनी चूत और गांड पर हथेली रखकर पलंग पर दर्द से लोटने लगी.
एक अफ़्रीकी रूमाल में बर्फ लपेटकर लाया और मेरी गांड और चूत पर लगाने लगा.

उससे मुझे थोड़ा आराम मिला, मुझे लगा उनको मेरे ऊपर दया आ गयी है.

तीनों नंगे बैठकर बियर पी रहे थे और कुछ खा रहे थे.
उन्होंने मुझसे भी पूछा- खाना है?

मैं बोली- सिर्फ पानी चाहिए.
एक अफ़्रीकी ने एक गिलास में मूत दिया, गिलास मेरे हाथ में देकर बोला- आज रात तुमको यही पीना है.

जोर की प्यास लगी थी, मैं मूत पी गयी.
मैं पेशाब करने बाथरूम की तरफ गई. मैं मुश्किल से दोनों पांव फैलाकर चल पा रही थी.

तीनों बोल रहे थे कि एक बार में ही इसकी यह हालत हो गयी.

थोड़ी देर बाद मुझे पीठ के बल पलंग पर धकेल दिया, मेरी टांगें अपने कंधे पर लीं और मुझे तीनों ने बारी बारी निर्ममता से मेरी चूत और गांड को चोदा. मेरे चूचों को वो लोग आटे की तरह मसल रहे थे, निप्पल चूस रहे थे.

इस बार लंड डालते समय पहले से भी ज्यादा दर्द हुआ.

मैं सोच रही थी कि पहली चुदाई के बाद मेरे छेद फ़ैल गए थे, फिर इतना दर्द क्यों?
तब मुझे समझ आया उन्होंने पहली चुदाई के बाद बर्फ लगाया था, जिससे मेरे छेद सिकुड़ (टाइट) गए थे.

उनका बर्फ लगाने का उद्देश्य यह था.

जब भी मैं चीखने के लिए मुँह खोलती, अफ़्रीकी मेरे मुँह के अन्दर थूक देता.
मुझे थूक पीना पड़ता.

फिर मुझे पलंग से थोड़ी दूर खड़ा करके झुका दिया गया.
मेरे हाथ और सर पलंग पर थे.

मैं पैर फैलाकर झुकी खड़ी थी.
एक अफ्रीकी ने मेरी कमर पकड़ी और मेरी चूत में अपना लंड पेलकर चोदने लगा. फिर उसने मेरी गांड भी मारी.

बाक़ी दोनों अफ़्रीकी मेरे दोनों ओर जमीन पर बैठ गए. उन्होंने अपने एक हाथ से मेरे कंधे दबा रखा थे, जिससे मैं सीधी खड़ी न हो जाऊं.
दूसरे हाथ से मेरे स्तन, निप्पल दबा और ऐसे खींच रहे थे, जैसे दूध निकाल रहे हों.

तीनों ने मुझे ऐसे ही चोदा.

मेरी हालत ख़राब हो रही थी, पांव कांप रहे थे.
उन्होंने मुझे उठाकर पलंग पर फैंक दिया.

थोड़ी देर आराम करने के बाद तीनों ने मेरे ऊपर लेटकर चूत मारी, फिर उल्टा लिटाकर मेरी गांड बजाई.
मैं अर्ध बेहोशी के हालत में थी.

दर्द का अहसास खत्म हो गया था.
जब सुबह संतोष तुमने मुझे जगाया तब मेरी आंख खुली.

संजना ने बोलना बंद किया और सो गयी.

चौथे दिन से संजना कैगल और अन्य कसरत करने लगी.

सातवें दिन जब मैं संजना की मालिश कर रहा था, संजना मुस्कुराकर बोली- मुझे आज प्यार करो.

फोरप्ले के बाद हमने सम्भोग किया, संजना की चूत ओर गांड पहले की तरह टाइट हो गयी थी.
कैगल कसरत करने के कारण ऐसा हुआ था.

मैंने संजना से वादा लिया कि वो कभी ज्यादा रुपयों के लिए ऐसा खतरा नहीं उठाएगी.
हम दोनों अपने अपने ग्राहकों के पास जाने लगे.

स्कूल में गर्मियों की छुट्टियों के कारण बहुत से ग्राहकों की बीवियां बच्चों के साथ मायके गयी थीं.
हमारा काम बहुत बढ़ गया था.

मुझे और संजना को हर रोज 2-4 ग्राहकों का बुलावा आता. हम दिन रात काम कर रहे थे.
फिर दीवाली की छुट्टियों में भी यही हाल रहता.

इस तरह से हमने अपनी वेश्यावृत्ति की कहानी से आपको रूबरू कराया.
आपको मेरी बिग पेनिस सेक्स पेन स्टोरी कैसी लगी है, मेल से बताएं.

[email protected]

बिग पेनिस सेक्स पेन स्टोरी से आगे की कहानी: सेक्स वर्कर जोड़े की कहानी

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top